39+ जिंदगी से नफरत शायरी | Zindagi se Nafrat Shayari

 Zindagi se Nafrat Shayari ज़िन्दगी से नफरत शायरी nafrat quotes.

इस छोटी सी ज़िन्दगी में प्यार और नफ़रत वक्त के साथ आता है और जाता भी है. इसी कड़ी में कई बार हमें हमारे इस ज़िदगी से ही नफ़रत हो जाती है. इसलिए मैं आपके लिए अपने ज़िन्दगी से जुड़े कुछ Zindagi se Nafrat Shayari लाया हूँ 

जिंदगी से नफरत शायरी

यह जिंदगी किसी से नफरत करने के लिए
या दुखी रहने के लिए बहुत छोटी है
इस बात को आज और अभी समझ लो,
नहीं तो कल इस बात पर  पछतावे का कोई लाभ नहीं होगा!!
yah jindagee kisee se napharat karane ke lie
ya dukhee rahane ke lie bahut chhotee hai
is baat ko aaj aur abhee samajh lo,
nahin to kal is baat par  pachhataave ka koee laabh nahin hoga!!
जिंदगी से नफरत शायरी | Zindagi se Nafrat Shayari

Or ab zindagi ke us makam par aa pahunche hain
Jaha dosti se nafrat or mohabbat se tauba hone laga hain.
अब जिंदगी के हम उस मकाम पर आ पहूचे है
जहां दोस्ती से नफ़रत औऱ मोहब्बत से तौबा होने लगा  है।
-----

नफरतें लाखो मिलीं पर मोहब्बत न मिली,
ज़िन्दगी निकल गयी मगर राहत न मिली,
तेरी महफ़िल में हर एक को हँसता देखा,
एक मैं था जिसे हँसने की इजाजत तक न मिली।

Zindagi se Nafrat Shayari Hindi

यह नफरत ही है
जिसे दुनिया चंद लम्हों में जान लेती हैं,
वरना चाहत का यकीन दिलाने में
पूरी जिदंगी बीत जाती है.
yah napharat hee hai
jise duniya chand lamhon mein jaan letee hain,
varana chaahat ka yakeen dilaane mein
pooree jidangee beet jaatee hai.
जिंदगी से नफरत शायरी | Zindagi se Nafrat Shayari

Zindagi ke uljhe sawalon ke jawaab dhundati hoon
Kar sake jo dard kam wo nasha dhundhati hoon
Waqt se mazboor halat se lachaar hoon mein
Jo dede jeene ka bahana aisi rah dhundhati hoon….!!
जिंदगी के उल्झे सवालो के जवाब ढूंढ़ती हूं
कर सके जो दर्द कम वो नशा ढूंढ़ती हूं
वक़्त से मजबूर हलत से लचर हूं मैं
जो देदे जीने का बहाना ऐसी राह धुंधती हूं मैं….!!
-----

नफरत से होने लगी है इस जिंदगी के सफर से अब,
ज़िन्दगी कही तो पहुचा दे खत्म होने से पहले.
napharat se hone lagee hai is jindagee ke saphar se ab,
zindagee kahee to pahucha de khatm hone se pahale.

 ज़िन्दगी से नफरत शायरी

वक़्त हर दर्द और हर नफरत को ख़तम कर सकता है,
मगर कुछ दर्द और नफरत इस ज़िन्दगी में कभी ख़तम नहीं हो सकते हैं।
जिंदगी से नफरत शायरी | Zindagi se Nafrat Shayari

Me saans rokna chaahta tha
Is nirdai duniya se dur jaana chaahta tha
क्योंकि wo her saans me mujhe yaad aati thi
Per me aisa kar nhi paaya
kyonki yah zindagi bhi to usi ki thi
Me use aise hi samaapat kaise kar sakta tha….!!
मैं सांस रोकना चाहता था
इस निर्दयी दुनिया से दूर जाना चाहता था
क्योंकि वो हर सांसों में मुझे याद आती हैं
मेरे लिए ऐसा कर पाना मुमकिन नहीं था
क्यूकी ये जिंदगी भी तो उसी की थी
मै इस जिंदगी को  ख़तम कैसे कर सकता था….!!
-----

वह रात दर्द और सितम की रात होगी
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी
उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर
कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी….!!
vah raat dard aur sitam kee raat hogee
jis raat rukhasat unakee baaraat hogee
uth jaata hoon main ye sochakar neend se aksar
ki ek gair kee baahon mein meree saaree kaayanaat hogee….!!

Nafrat quotes In Hindi

जिंदगी में छांव है तो कभी धूप है,
ऐ जिंदगी न जाने तेरे कितने रूप है,
जिंदगी में हालात जो भी हों,
लेकिन जिंदगी में मुस्कुराना नही भूला करते हैं।
jindagee mein chhaanv hai to kabhee dhoop hai,
ai jindagee na jaane tere kitane roop hai,
jindagee mein haalaat jo bhee hon,
lekin jindagee mein muskuraana nahee bhoola karate hain.
------

"हमारी ज़िंदगी नफ़रत नहीं प्यार करने के लिए बनी है।"
"hamaaree jindagee napharat nahin pyaar karane ke lie banee hai."
------

ज़िंदगी आखिर हम सब की मेहमान ही तो होती है, मगर वो जो नफ़रतों के बाद भी, इतनी खामियों के साथ भी, इतनी गलतियों के बाद भी, हमें कबूल करती है, देखो वो मौत भी तो रहमान ही तो होती है! Zindagi aakhir hum sab ki mehmaan hi to hoti hai, Magar wo jo nafraton ke baad bhi, Itni khaamiyon ke sath bhi, Hamein kabool karti hai, dekho wo maut bhi to rehmaan hi to hoti hai!

Related Posts

Subscribe Our Newsletter

0 Comments to "39+ जिंदगी से नफरत शायरी | Zindagi se Nafrat Shayari"

एक टिप्पणी भेजें